कुण्डेश्वर

5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक महत्वपूर्ण गाँव। टीकमगढ़ शहर के दक्षिण में जमदार नदी के किनारे। यह स्थान कुंडदेव महादेव मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। ऐसा माना जाता है कि शिव लिंग कुंड से निकला है। इसके दक्षिण में सुंदर पिकनिक स्थल है जिसे ‘बैरीघर’ के नाम से जाना जाता है और ‘उषा वाटर फॉल’ के नाम से जाना जाने वाला एक सुंदर झरना है। इस गांव में ऐक्रोलॉजिकल म्यूजियम और विनोबा संस्थान है। महाराजा बिरसिंह देव ने कुंडेश्वर साहित्य संस्थान की स्थापना की, जो कुंडेश्वर में अपने प्रवास के दौरान पंडित बनारसीदास चतुर्वेदी और यसपाल जैन द्वारा संचालित किया गया था।

फोटो गैलरी

  • कुण्डेश्वर
  • कुण्डेश्वर
  • कुण्डेश्वर

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

निकटतम हवाई अड्डा खजुराहो छतरपुर जिले में है।

ट्रेन द्वारा

निकटतम रेलवे स्टेशन टीकमगढ़ और ललितपुर रेलवे स्टेशन हैं।

सड़क के द्वारा

टीकमगढ़ शहर से 5 KM दूर है , सार्वजनिक परिवहन उपलब्ध है।